हस्तमैथुन (Masturbation) – कारण, उपाय, फायदे-नुकसान Hastmaithun in Hindi

Spread the love

आजकल के लोगो विशेषकर युवाओं में हस्तमैथुन (Masturbation) से संबंधित कई सारे प्रश्न उठते हैं जिनको जानना हरेक (Everybody) के लिए अति आवश्यक है। मास्टरबेशन एक ऐसी क्रिया है जिसमे व्यक्ति स्वयं को उत्तेजित करके चरम या क्लाइमैक्स पर पहुंचता है। इसमें हस्तमैथुन या मास्टरबेशन की क्रिया करने वाले व्यक्ति के दिमाग में कई प्रकार की कल्पनाएं जुड़ी होती है।

इस क्रिया को स्त्री और पुरुष दोनों ही चरमसुख या यौन संतुष्टि के लिए करते हैं। कुछ लोगों को तो सेक्स से भी मास्टरबेशन या हस्तमैथुन ज्यादा अच्छा लगता है। और ये बात सच भी है कि आप किसी व्यक्ति के साथ सैक्स करके एड्स (Aids) जैसी बीमारियां पालने से ज्यादा अच्छा है हस्तमैथुन अथवा मास्टरबेशन।

वैसे तो हस्तमैथुन या मास्टरबेशन करने की सलाह कई सेक्स विशेषज्ञ (sex specialist) देते हैं किंतु जब इसकी अधिक लत या आदत लग जाती है तो इसके कई सारे दुष्प्रभाव होते हैं जिनका असर न सिर्फ आपके मानसिक स्वास्थ (mental health) पर पड़ता है बल्कि आपकी रिलेशनशिप पर भी पड़ता है।

Out line

हस्तमैथुन क्या है? (What is Masturbation or Onanism in Hindi?)

masturbation in hindi
Masturbation
Masturbation kya hota hai in Hindi Hastmaithun in Hindi  

मास्टरबेशन या हस्तमैथुन का सरल भाषा में मतलब होता है ”अपने जननांगों को छूने से यौन सुख प्राप्त करना”

सामान्य तौर पर, पुरुष या लड़के अपने लिंग या पेनिस (Penis) को पकड़कर उसे ऊपर-नीचे करके या घुमाकर हिलाते हैं और स्त्रियां या लड़कियां अपनी योनि या भगशिश्निका (Clitoris) के आसपास के भाग को अपनी अंगुलियों से रगड़ती है जिससे यौन सुख की प्राप्ति होती है। इस क्रिया को हस्तमैथुन या मास्टरबेशन (Masturbation) कहा जाता है।

हस्तमैथुन (Wank) करने वाले व्यक्ति को हस्तमैथुनकर्ता (Wanker) कहते हैं। हस्तमैथुन से चरम-आनंद कामोन्माद (Orgasm) होता है।

मास्टरबेशन (Hastmaithun) बहुत ही सामान्य होता है और लगभग सभी उम्र के लोग इस क्रिया को करते हैं। अनचाहे गर्भ को निमंत्रण देने से अच्छा है हस्तमैथुन अथवा मास्टरबेशन का विकल्प। सच कहें तो मास्टरबेशन में आप मानसिक रूप से उस व्यक्ति के साथ सेक्स कर रहें होते हैं जिनसे आप प्यार करते हैं।

ऋषि वात्सायन ने कामसूत्र में लिखा है कि “संतोष आवश्यक चीज है न कि सहवास”

प्रायः भारतीय समाज में लोग मास्टरबेशन को अपराध मानते हैं तथा इसपर कभी भी खुलकर बार नहीं करते हैं। समाज में लोग हस्तमैथुन के बारे में ये सोचते हैं कि इससे नपुंसक हो जाते हैं और कमजोर व दुबले-पतले होते हैं। इसलिए इसपर कभी भी खुलकर बात नहीं करते हैं किंतु वास्तविकता कुछ ओर है।

एक सप्ताह में अधिक से अधिक तीन बार हस्तमैथुन (Hastmaithun) करना ठीक है इससे अधिक नहीं करना चाहिए। मास्टरबेशन करने के कई सारे लाभ भी होते हैं जिनका वर्णन आगे विस्तार से किया गया है।

हस्तमैथुन की लत लगने के कारण (Causes of addiction of Masturbation in Hindi)

Masturbation ke karan hindi
Masturbation causes
Hastmaithun ke karan in Hindi  hastmaithun ki lat lagne ka karan  मुठ मारने के कारण

मास्टरबेशन के क्या कारण होते होते हैं या मास्टरबेशन या हस्तमैथुन कैसे होता है तो बता दें कि मास्टरबेशन करने के पीछे किसी व्यक्ति के निम्नलिखित कारण होते हैं –

  • बहुत अधिक अश्लील सामग्री देखना 

आजकल के बहुत से युवा या जवान लोगों में हस्तमैथुन या मस्टरबैशन का सबसे बड़ा कारण ये है की वे बहुत अधिक अश्लील वस्तुएं जैसे पोर्न वीडियो या हॉट वीडियो आदि देखते हैं या फिर हमेशा उनके मन में और दिमाग में गन्दी बातें रहती है। जिसके कारण उनके जननांग उत्तेजित हो जाते हैं और वो मास्टरबेट (Masturbate) करने लगते हैं।

  • जननांगों की अत्यधिक उत्तेजना

कुछ लोगों में जननांगों में अधिक उत्तेजना भी रहती है जिसके कारण उनके मन में अश्लील बातें आती है और उनका सेक्स करने का मन करता है। इस प्रकार जिन व्यक्तियों के पास जीवनसाथी या गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड नहीं होते हैं वो लोग मास्टरबेट करने की सोचते हैं।

  • यौन गतिविधि की अनुपस्थिति या कमी

जिन लोगों के पास यौन गतिविधियों की कमी होती है या बिलकुल ही अनुपस्थिति होती है अर्थात जिन व्यक्तियों के पास पति/पत्नी  या गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड नहीं होते हैं वो लोग हस्तमैथुन या मास्टरबेट करने की सोचते हैं।

  • सेक्स हार्मोन के सप्लीमेंट्स लेना

कई सारे लोग बिना किसी कारण के सेक्स हॉर्मोन के सप्लीमेंट लेते हैं जिसके कारण भी हस्तमैथुन या मस्टरबैशन की समस्या लगती है।

  • भौतिक निष्क्रियता (physical inactivity)

कुछ लोगों में फिजिकल इनैक्टिविटी के कारण भी हस्तमैथुन की समस्या उत्पन्न होती है। फिजिकल इनैक्टिवित्य या भौतिक निष्क्रियता का मतलब कोई व्यायाम या कसरत नहीं करना। जब लोग व्यायाम या प्राणायाम नहीं करते हैं उन लोगों में भी मस्टरबैशन करने की इच्छा होती है।

  • तनाव

इनके अतिरिक्त तनाव होने के कारण भी बहुत से लोग हस्तमैथुन कर बैठते हैं।

हस्तमैथुन के लाभ (Benefits of Masturbation in Hindi)

Masturbation benefits in hindi
हस्तमैथुन के लाभ
Hastmaithun ke labh ya fayde   masturbation ke fayde ya labh in Hindi 

हस्तमैथुन को यदि एक निश्चित सीमा तक किया जाये तो इसके कई सारे लाभ या फायदे (Benefits) होते हैं जो निम्नलिखित है –

मानसिक तनाव दूर करता है (relieve mental stress)

जब आप हस्तमैथुन या मस्टरबैशन करते हैं तो आपको ख़ुशी का अनुभव होता है जिससे आप अपने काम के कारण होने वाले तनाव को भूल जाते हैं। हस्तमैथुन या मस्टरबैशन के दौरान आपका मस्तिष्क एक दिशा में ही सोचता है जिसके कारण आप शांत महसूस करते हैं।

जब भी कोई व्यक्ति सेक्स के बारे में अधिक सोचता है तो उसका मस्तिष्क डोपामिन (Dopamine) नामक रसायन छोड़ता है जो उसे आनंद दिलाता है। ठीक उसी प्रकार जब कोई व्यक्ति सेक्स या हस्तमैथुन या ओननिज़्म करता है तो एंडोर्फिन्स (Endorphins) नामक केमिकल या रसायन का स्त्राव होता है जो मानसिक तनाव को दूर करता है।

यौन उत्तेजना को शांत करता है (calms sexual arousal)

मास्टरबैशन या ओननिज़्म (Onanism) का एक लाभ ये है की इसको करने से यौन उत्तेजना में शांति मिलती है। वैसे जब आप अपने किसी साथी या हमसफ़र के साथ में शारीरिक सम्बन्ध बनाते हैं तो उस आनंद की तुलना हस्तमैथुन या मास्टरबैशन के आनंद के साथ तुलना करना संभव नहीं है। किन्तु जब यौन उत्तेजना अधिक होती है तो ऐसी स्थिति में आप हस्तमैथुन या ओननिज़्म का सहारा ले सकते हैं।

मास्टरबैशन पूरी तरह से सुरक्षित है (Masturbation is completely safe)

हस्तमैथुन (Hastmaithun) सेक्स की तुलना में पुरु तरह सैफ क्रिया है। हस्तमैथुन या मास्टरबैशन करने से सम्भोग या सेक्स सम्बंधित बिमारियों का कोई खतरा नहीं रहता है। इस क्रिया को अपनाने से एड्स व गोनोरिया जैसी बीमारियां जो कि यौन संचरित रोग (STDs, Sexually Transmitted Diseases) हैं, होने से बचा जा सकता है।

हस्तमैथुन से नींद अच्छी आती है (masturbation makes you sleep better) 

मास्टरबैशन का एक लाभ ये भी है कि इसे करने से नींद अच्छी आती है। दरअसल जब हस्तमैथुन होता है तो जो एंडोर्फिन्स (Endorphins) रसायन मानसिक तनाव को दूर करता है वहीँ उसके कारण ब्लड प्रेशर कम होता है और शरीर को शिथिलता मिलती है। जिसके कारण अच्छी नींद का अनुभव होता है।

शारीरिक पीड़ा को कम करता है मास्टरबैशन (Masterbation reduces physical pain)

शारीरिक पीड़ा या दर्द को कम करने के लिए हस्तमैथुन लाभदायक होता है। जब आप हस्तमैथुन या ओननिज़्म करते हैं तो उस समय आप सेक्स के बारे में ही सोचते है और उसी के आनंद में डूबे रहते हैं जिसके कारण आप अन्य शारीरिक दर्द अथवा पीड़ा को भूल जाते हैं। इस प्रकार हस्तमैथुन या मास्टरबैशन आपकी शारीरिक पीड़ा को कम करने में मदद करता है।

मास्टरबैशन एक प्राकृतिक प्रक्रिया है (Masturbation is a natural process)

hastmaithun in hindi
Masturbation in Hindi

हस्तमैथुन या ओननिज़्म (Onanism) एक नेचुरल प्रक्रिया है। मास्टरबैशन करने से आपकी प्रजनन क्षमता पर इसका कोई भी हानिकारक प्रभाव नहीं पड़ता है। कई सरे लोग यह सोचते हैं कि हस्तमैथुन या मास्टरबैशन करने से शारीरिक कमजोरी या कामुकता में कमी आती है किन्तु ये बिलकुल गलत सोच है। कामुकता में कमी या शारीरिक कमी आना किसी अफवाह से कम नहीं है।

एक रिसर्च के अनुसार यह पता चला है कि जानवर विशेषकर बन्दर, कुत्ते, बिल्ली भी हस्तमैथुन करते हैं।

हस्तमैथुन से एकाग्रता बढ़ती है (Masturbation increases concentration)

हस्तमैथुन से टेंशन तो कम होती ही है परन्तु इससे एकाग्रता में भी वृद्धि होती है। जिन लोगों में अशांति की समस्या होती है और हर समय बहुत टेंशन रहता है वो लोग भी हस्तमैथुन करके इसका लाभ ले सकते हैं। ऐसा करने से उनके कंसंट्रेशन में भी सुधार आता है।

सम्भोग या सेक्स में सुधार आता है मास्टरबैशन (Hastmaithun) से 

जो लोग हस्तमैथुन (onanism) करते हैं उन लोगों को हस्तमैथुन का एक लाभ यह भी होता है कि इससे सम्भोग क्रिया में भी सुधार आता है। मतलब जब आप हस्तमैथुन करते हैं तो आपके गुप्तांग (योनि/लिंग) की संवेदना धीरे-धीरे काम होती जाती है जिसके करण आपको स्खलन या चरम सुख प्राप्त करने के लिए अधिक समय तक मास्टरबेट करना पड़ता है।

जब वही व्यक्ति अपने साथी या लाइफ पार्टनर के साथ सम्भोग करता है तो उसके साथ भी उसे चरम सुख पाने के लिए अधिक देर तक सेक्स कर सकेगा।

मास्टरबैशन शीघ्रपतन दूर करने में सहायक 

जिन लोगों को शीघ्रपतन की समस्या है और इसे ठीक करना चाहते हैं तो वो हस्तमैथुन का सहारा ले सकते हैं। जिन लोगों का सम्भोग के दौरान समय से पहले वीर्यस्खलन हो जाता है तो मास्टरबैशन या हस्तमैथुन की क्रिया को अपनाकर इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

आनंद में कमी नहीं रहती है 

हस्तमैथुन करने से इतना आनंद मिलता है कि आनंद की कमी नहीं रहती है। जब कोई व्यक्ति मास्टरबैशन (onanism) की क्रिया करता है तो अपना पूरा ध्यान सिर्फ उसी पर रहता है जिससे वो टेंशन और शारीरिक पीड़ा को भूल जाता है और उसे आनंद आने लगता है।

हस्तमैथुन के नुकसान या हानियां (Side effects of Masturbation in Hindi)

हस्तमैथुन जितना लाभदायक होता है उतने ही उसके दुष्प्रभाव होते हैं। हालाँकि इसके कोई नुकसान नहीं होते हैं प्रत्येक चीज के खाने, पीने या इस्तेमाल करने की एक सीमा होती है। यदि इस सीमा को पार कर जाते हैं तो हस्तमैथुन या ओननिज़्म (Onanism) के थोड़े बहुत दुष्प्रभाव या नुकसान भुगतने पड़ सकते है।

मास्टरबैशन (Hastmaithun) के जितने लाभ होते हैं। यदि इसे इसकी सीमा से अधिक किया जाये तो इसके कई सारे गंभीर दुष्परिणाम या साइड इफ़ेक्ट भी होते हैं। हस्तमैथुन या मास्टरबैशन के दुष्प्रभाव निम्नलिखित है –

लिंग में सूजन आना 

हस्तमैथुन करने का एक तरीका होता है यदि आप गलत तरीके या फिर जल्दबाजी में बहुत तेजी से या लिंग पर अत्यधिक दबाव लगाकर मस्टरबैशन (Hastmethun) करते हैं तो इससे आपके पेनिस या लिंग में सूजन आ सकती है और लिंग दर्द करने लगता है।

ऐसा यदि बार-बार होता है तो लिंग की सूजन आसानी से नहीं जाती है जिसके कारण समस्या बढ़ सकती है। इसलिए हमेशा हस्तमैथुन सही तरीके एवं जल्दबाजी में न करें।

लिंग की मांसपेशियां टूट जाना 

कई लोग मास्टरबेट करते समय लिंग को बहुत अधिक दबा देते हैं और मरोड़ लेते हैं। ऐसा वो वीर्य निकाकलने से बचने के लिए भी करते हैं किन्तु ऐसा करना बहुत गलत है। ऐसे लिंग को मरोड़ने या दबाने से कई बार बहुत गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है और लिंग की मांसपेशिया टूट सकती है।

इसके अतिरिक्त ऐसा करने से पेरोनी या पायरोनी (Peyronie’s disease) रोग हो सकता है।

शरीर का कमजोर हो जाना

वैसे हस्तमैथुन करने से कोई कमजोरी नहीं आती है परन्तु बहुत अधिक मात्रा में यदि हस्तमैथुन किया जाये तो थोड़ी बहुत कमजोरी आने लगती है और यह कमजोरी तब तक रहती है जब तक हस्तमैथुन को कुछ दिनों के लिए बंद या बहुत कम न कर दिया जाये। हस्तमैथुन को बंद करने पर कमजोरी अपने आप ठीक हो जाती है।

लिंग की उत्तेजना कम होना 

अधिक मास्टरबेट करने से कई बार लिंग के ऊतक कमजोर हो जाते हैं और इसके कारण कई बार नए ऊतक बनना भी बंद हो सकते हैं। परिणाम यह होता है कि जब नए ऊतक बनना बंद हो जाते हैं तो लिंग की उत्तेजना में धीरे-धीरे कमी आ सकती है।

दैनिक जीवन का बाधित होना 

प्रतिदिन और अत्यधिक मास्टरबैशन करने से आपका दैनिक जीवन प्रभावित हो सकता है। दैनिक जीवन के अंतर्गत आपका कामकाज, जिम्मेदारियां और यदि आप स्टूडेंट या विद्यार्थी हैं तो आपकी पढाई प्रभावित हो सकती है।

हस्तमैथुन को छोड़ने के उपाय (Remedies/ways to quit Masturbation in Hindi)

जिस प्रकार हमारी कुछ मुलभुत आवश्यकताएं जैसे रोटी, कपड़ा और मकान होती है। वैसे ही सेक्स भी जीवन में आवश्यक होता है। जब कोई व्यक्ति जीवन में किसी कारण से सेक्स या सम्भोग नहीं कर पाता है तो इसका दूसरा प्राकृतिक उपाय हस्तमैथुन या मस्टरबैशन है। इसलिए मस्टरबैशन (Hastmaithun) को बुरा नहीं समझें।

किन्तु हस्तमैथुन की अधिक लत पड़ने पर कई सरे लोग परेशान व चिंतित हो जाते हैं और इसे कम करने का प्रयास करते हैं परन्तु वो कम करने में असमर्थ होते हैं। इसके लिए आपको सेक्सिओलॉजिस्ट से परामर्श लेना चाहिए वो आपकी लत को कम करने का प्रयास करेंगे।

इसके अतिरिक्त हस्तमैथुन को कम करने के लिए हस्तमैथुन की इच्छा होने पर इसके स्थान पर कोई और गतिविधियां अपना सकते हैं जैसे –

मित्रों के साथ समय बिताएं 

अगर हस्तमैथुन की लत अधिक हो गई हो और इसे कम करना चाहते हैं तो आप जब भी मस्टरबैशन या हस्तमैथुन करने का मन करे तो आप अपने मित्रों के साथ समय बिता सकते हैं। इससे आपको हस्तमैथुन को कम करने में सहायता मिल सकती है।

घूमने चले जाएँ 

इसके आलावा जब भी मस्टरबैशन करने की इच्छा हो तो तुरंत घूमने निकल जाएँ। ऐसा करने से आपका ध्यान हस्तमैथुन से भटक जायेगा और हस्तमैथुन करने की इच्छा नहीं होगी।

पढ़ने या लिखने लग जाएँ 

अगर आप घर पे अकेले हो और आपको मास्टरबेट (Masturbate) करने इच्छा होती है तो आप पढ़ने लग जाएँ या कुछ लिखने बेथ जाएँ और अपना मन हस्तमैथुन से हटाने की कोशिश करें। इससे भी आप हस्तमैथुन की लत को कम कर सकते हैं।

पोर्न देखना बंद कर दें 

पोर्न वीडियो या अन्य अश्लील सामग्री देखने से भी मस्टरबैशन (onanism) की लत अधिक लग सकती है। इसलिए यदि आप पोर्न या अश्लील सामग्री देखते हो तो इस प्रकार की चीजें देखना बंद कर दें।

दृढ़ संकल्प और इच्छा शक्ति

हस्तमैथुन की लत को कम करने के लिए आप अपने मन में दृढ सकल्प लेकर और मजबूत इच्छाशक्ति जागृत करके भी हस्तमैथुन की लत को कम कर सकते हैं।

आध्यात्म का सहारा लें 

प्रार्थना और आध्यात्मिक अध्ययन से न सिर्फ हस्तमैथुन की लत से छूटकर पाया जा सकता है बल्कि प्रत्येक समस्या का समाधान किया जा सकता है। इसके लिए आप आध्यात्मिक किताबें पढ़ सकते हैं या ध्यान की मुद्रा में बैठकर ध्यान कर सकते हैं। ऐसा करने से आपके विचारों में भी शुद्धता आती है।

हस्तमैथुन की लत को छोड़ने का आयुर्वेदिक इलाज (Ayurvedic treatment to quit Masturbation addiction in Hindi)

मस्टरबैशन को छोड़ने के तो कोई आयुर्वेदिक या घरेलू उपाय या उपचार नहीं होता है। मस्टरबैशन या हस्तमैथुन को दृढ इच्छाशक्ति और संकल्प के द्वारा ही छोड़ा या कम किया जा सकता है परन्तु अत्यधिक हस्तमैथुन (Hastmaithun) करने के कारण आई कमजोरी को भले ही आयुर्वेदिक उपचार से दूर किया जा सकता है।

हस्तमैथुन की कमजोरी को दूर करने के आयुर्वेदिक या घरेलू उपाय निम्नलिखित है –

दूध और शहद

हस्तमैथुन की कमजोरी को दूर करने के लिए आप दूध और शहद का सेवन भी कर सकते हैं। प्रतिदिन इसका सेवन करने से वीर्यवृद्धि और कमजोरी दूर होती है। रोज रात को सोने से पहले एक गिलास दूध में दो छोटे चम्मच शहद मिलकर पिए। इससे कमजोरी दूर होती है।

छुहारे का सेवन करें 

मस्टरबैशन (Hastmethun) की कमजोरी को दूर करने के लिए छुहारे या सूखे खजूर का सेवन भी लाभदायक होता है। छुहारे के सेवन से शुक्राणुओं की वृद्धि और एनर्जी होती है। प्रतिदिन सुबह खली पेट चार से पांच छुहारों का सेवन करें और बाद में एक छोटी गिलास दूध पी जाएँ

अंकुरित पदार्थों का सेवन करें 

अंकुरित पदार्थों में मुखतः अंकुरित दालें और अनाज आतें हैं। इनका सेवन करने से शरीर की कमजोरी दूर होती है और शरीर ताकतवर एवं मजबूत बनता है। अंकुरित दालों और अनाजों में फाइबर और प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। जिनको खाने से कमजोरी दूर होती है और शरीर स्ट्रांग बनता है। प्रतिदिन अंकुरित दालों और चनों का सेवन करें।

केले का सेवन करें 

अगर आपका शरीर बहुत ही अधिक कमजोर और दुबला पतला है तो आप केले का सेवन करें। केले में पाचनशक्ति को ठीक करने का गुण पाया जाता है तथा केले में फाइबर और प्रोटीन भी पाया जाता है। प्रतिदिन सुबह और शाम को दो-दो केले और बाद में आधा गिलास दूध पीलें। इससे कमजोरी दूर होगी और शरीर स्ट्रॉन्ग बनता है।

नोट: किसी भी उपचार को अपनाने से पहले एक बार आयुर्वेदिक चिकित्सक से अवश्य परामर्श लें।

हस्तमैथुन से संबंधित गलतफहमियां (Misconceptions about Masturbation in Hindi)

प्रायः समाज में हस्तमैथुन का बारे में कई सारी गलतफहमियां या भ्रांतियां होती है जिनको समझना अति आवश्यक है। हस्तमैथुन को लेकर कई सारे मिथक है और बहुत से लोग मस्टरबैशन के बारे में अलग-अलग बातें सोचतें हैं किन्तु बहुत सी बातों के कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं हैं।

हस्तमैथुन से सम्बंधित निम्नलिखित भ्रांतियां होती है जो कि गलत है तथा हस्तमैथुन या मास्टरबैशन (Masturbation) के परिणाम ये नहीं होते हैं जो निम्न हैं –

  • बाँझपन
  • नपुंसकता
  • आँखों का कमजोर होना
  • शुक्राणुओं या स्पर्म्स की कमी होना
  • शारीरिक या मानसिक कमजोरी आना
  • बाल झड़ना
  • लिंग का छोटा होना आदि

हस्तमैथुन से जुड़े सच और झूठ (Truths and falses about Masturbation in Hindi)

हस्तमैथुन करने पर बहुत लोगों के मन में इसके प्रति गलत धारणाएं होती है जिनको सही करना बहुत ही आवश्यक है। मास्टरबैशन या हस्तमैथुन से जुड़े सच और झूठ (Facts and Myths) निम्नलिखित है –

मास्टरबैशन से जुड़े झूठ –

  • हस्तमैथुन करने से अंधे होते हैं – बहुत से लोग ये सोचते हैं कि अगर हस्तमैथुन करेंगे तो हम अंधे हो जायेंगे। किन्तु ऐसा बिलकुल सही नहीं है। हस्तमैथुन करने से किसी प्रकार का अंधापन नहीं आता है।
  • जो लोग सम्बन्ध में होते हैं वो हस्तमैथुन नहीं करते हैं – कई लोग ये सोचते हैं कि जो लोग रिलेशनशिप या सम्बन्ध में होते हैं वो हस्तमैथुन नहीं करते हैं किन्तु सच तो ये है कि जो व्यक्ति सम्बन्ध में होते हैं वो भी हस्तमैथुन करते हैं। सभी की यौन इच्छाएं अलग-अलग होती हैं जिनको पूरा करने के लिए लोग मास्टरबैशन करते हैं।
  • अत्यधिक हस्तमैथुन करने से लिंग की उत्तेजना कम हो जाती है – लोगों में ये धारणा या मिथक भी होता है कि अधिक हस्तमैथुन करने से पेनिस की उत्तेजना में कमी आ जाती है किन्तु ये बिलकुल झूठ है। सच तो ये है कि अधिक हस्तमैथुन से लिंग की उत्तेजना में कोई फर्क नहीं पड़ता है।
  • जब लोग एकांत होते हैं तब हस्तमैथुन करते हैं – लोगों में ये भी मिथक या गलत धारणा होती है कि जब भी लोग अकेले होते हैं तो वो हस्तमैथुन या मास्टरबैशन करते हैं किन्तु सच बात तो यह है कि हस्तमैथुन किसी भी समय किया जा सकता है जरूरी नहीं कि जब अकेले हो तब हस्तमैथुन ही करें हो सकता हैं वो कोई अन्य काम करते हो।
  • मस्टरबैशन या हस्तमैथुन करने से शारीरिक कमजोरी आती है – कुछ लोगों का मानना है कि अधिक हस्तमैथुन अथवा मास्टरबैशन (Onanism) करने के कारण शरीर में कमजोरी आती है ये बात उस समय तक सही है कि जब अत्यधिक हस्तमैथुन करते हैं तो थोड़ी कमजोरी के साथ साँस फूलना, धड़कनों का बढ़ना, हाथपैरों में पसीना आना या किसी काम में मन न लगना। किन्तु यह कुछ समय बाद अपने आप ठीक हो जाती है।
  • हस्तमैथुन करने के कोई यौन लाभ नहीं हैं – प्रायः लोग ये समझते हैं कि मास्टरबैशन करने से कोई भी यौन लाभ नहीं होता है किन्तु ये पूरी असत्य है। सत्य तो यह है कि हस्तमैथुन करने से तनाव, चिंता सिरदर्द दूर होता है और ये अच्छी नींद में भी लाभदायक साबित सिद्ध होता है। इसके अतिरिक्त इसके कारण एकाग्रता, आत्मसंयम और शरीर भी फिट रहता है।
  • अधिक हस्तमैथुन करने से शुक्राणुओं की संख्या में कमी आती है – कुछ लोगों का ये मानना है कि यदि वे अधिक हस्तमैथुन करेंगे तो शरीर में शुक्राणुओं की संख्या में कमी आती है। परन्तु ये पूर्णतः असत्य है। शुक्राणुओं की संख्या में कमी होना अन्य कारण हो सकता है। हस्तमैथुन करने से शुक्राणुओं या स्पर्म में कोई कमी नहीं आती है।
  • हस्तमैथुन से बाँझपन या शीघ्रपतन जैसी समस्याएं आती है – लोगों में ये भी मिथक होता है कि अधिक हस्तमैथुन करने से शीघ्रपतन और बाँझपन जैसी समस्याएं आती है परन्तु ये सत्य नहीं है। सत्य तो ये है कि हस्तमैथुन करने से शीघ्रपतन की समस्या दूर होती है तथा बाँझपन से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है।
  • अधिक हस्तमैथुन करने से लिंग छोटा हो जाता है – लोगों में ये धारणा भी होती है कि अधिक हस्तमैथुन करने से लिंग छोटा हो जाता है किन्तु ऐसा बिलकुल नहीं है। हस्तमैथुन (Hastmaithun) करने या ना करने से लिंग पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।
  • हस्तमैथुन से बाल झड़ते हैं – बहुत सारे लोग ये भी सोचते है कि अधिक हस्तमैथुन करने से माथे या सिर के बाल झड़ते हैं किन्तु ये बात झूठ है। बालों का झड़ना अन्य कारण या अन्य बीमारी का लक्षण हो सकता है। हस्तमैथुन करने से आपके बालों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

हस्तमैथुन से जुड़े सवाल-जवाब (FAQs related to Masturbation in Hindi)

मास्टरबैशन या हस्तमैथुन (Hastmaithun) से जुड़े कुछ सवाल होते हैं जो कई सारे लोगों के दिमाग में घुमते हैं। इसलिए इनका उत्तर सभी लोगों को जानना आवश्यक है। मस्टरबैशन (Onanism) से जुड़े प्रश्न और उनके उत्तर निम्न है –

हस्तमैथुन कितना करना चाहिए ? or कितनी बार मास्टरबैशन करना चाहिए ? or मास्टरबैशन कितने दिनों में करना चाहिए ?   

हस्तमैथुन एक यौन इच्छाओं को शांत करने का एक प्राकृतिक तरीका है। हस्तमैथुन करने की कोई निश्चित आवृत्ति नहीं है। पर जब भी आपको हस्तमैथुन करने का मन करे तब समय-समय पर कर लें। यह यौन उत्तेजनाओं को शांत करने के लिए एक यौन अभ्यास है। किन्तु मस्टरबैशन एक सप्ताह में 3 बार से अधिक ना करें तो अच्छा है। 

क्या होता है अगर पुरुष नियमित हस्तमैथुन करते रहें ?

मास्टरबैशन एक यौन सम्बंधित क्रिया है जिसे करने से तनाव व चिंता दूर होती है और आप अच्छा महसूस करते हैं किन्तु यदि आप लगातार हस्तमैथुन करते हैं तो कुछ समय तक (जब तक आप हस्तमैथुन करते हैं) आपको थोड़ी बहुत महसूस कमजोरी हो सकती है किन्तु हस्तमैथुन की क्रिया बंद करने के थोड़े दिनों में कमजोरी अपने आप ठीक हो जाती है।

क्या औरतें मास्टरबेशन करती हैं?

मास्टरबैशन सभी जेंडर कर सकते हैं चाहे वो स्त्री हो, पुरुष हो या कोई अन्य जेंडर हो। इसमें स्त्रियां भी आती है। स्त्रियों में उत्तेजक ऑर्गन या अंग क्लाइटोरिस या भगशिश्निका होता है जिसको शांत करने के लिए महिलाएं भी मस्टरबैशन कर सकती है।

क्या प्रेगनेंसी के दौरान हस्तमैथुन कर सकते है?

गर्भावस्था या प्रेगनेंसी में स्त्रियां अधिक यौन उत्तेजना महसूस करती है जिसके कारण हार्मोन बदलता है। हस्तमैथुन प्रेगनेंसी में यौन तनाव को ठीक या कम करने का प्रभावी और सुरक्षित तरीका है। गर्भावस्था के समय होने वाली समस्याओं और कमरदर्द या अन्य सम्बंधित दर्द को ठीक करने में भी मास्टरबेशन सहायक होता है।

किन्तु कभी-कभी मस्टरबैशन करने के बाद कुछ महिलाएं अनियमित ऐंठन और नरमी या दर्द महसूस कर सकती है किन्तु ये समस्याएं कुछ समय बाद ठीक हो जाती है। अगर दर्द ठीक नहीं होता है तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। प्रेगनेंसी में कुछ जोखिम वाली स्त्रियों के लिए मस्टरबैशन हानिकारक या नुकसानदायक भी हो सकता है।

क्या हस्तमैथुन करने से यौन उत्तेजना कम होती है?

कई सारे लोगों को इस बात की गलत फहमी है कि मास्टरबैशन करने से यौन उत्तेजना कम होती है। किन्तु हस्तमैथुन करने से यौन उत्तेजना पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

क्या हस्तमैथुन के कारण गर्भवती हो सकते हैं?

नहीं, जब तक वेजिना के अंदर वीर्य या सीमेन प्रवेश नहीं करता है तब तक स्त्रियां गर्भवती नहीं होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.