कोरोनावायरस (Coronavirus in Hindi) – लक्षण व उपचार

Spread the love

कोरोनावायरस क्या है? (What is Coronavirus in Hindi)

What is Coronavirus in Hindi?
कोरोनावायरस
Coronavirus kya hai in Hindi   कोरोना वायरस क्या है   

कोरोनावायरस (Coronavirus) जिसकी शुरुआत दिसम्बर २०१९ में चीन के वुहान शहर से हुई थी । कोरोनावायरस को चीनी वैज्ञानिकों ने एक नयी नस्ल के रूप में पहचान की जिसे 2019-nCoV प्रारंभिक पद नाम दिया गया ।

प्रारंभ में इस वायरस का संक्रमण सिर्फ चीन के वुहान शहर में ही था किन्तु बाद में धीरे-धीरे यह वायरस भारत सहित 70 से अधिक देशों में फ़ैल गया और एक वैश्विक महामारी (pandemic) का रूप ले लिया जिसे COVID-19 disease (coronavirus disease) कहा जाता है ।

कोरोनावायरस के लक्षण (symptoms of Coronavirus in  Hindi)

coronavirus in hindi
coronavirus
कोरोनावायरस के क्या-क्या लक्षण है ?  Coronavirus ke kya lakshan hai?   Coronavirus ke lakshan 

कोरोनावायरस के लक्षणों को हम दो भागों में विभाजित कर समझेंगे जिसमें एक भाग में सामान्य लक्षण एवं दुसरे भाग में गंभीर लक्षण होंगे । कोरोनावायरस महामारी के निम्नलिखित लक्षण है –

सामान्य लक्षण 

  • ज्वर आना (बुखार आना)
  • सूखी खांसी होना
  • थकान महसूस करना
  • स्वाद और गंध का पता नहीं चलना
  • गले में खराश होना

इसके अतिरिक्त कम पाए जाने वाले लक्षण होते है-

  • सिरदर्द होना
  • दस्त आना
  • खुजली होना
  • त्वचा पर चकते आना

गंभीर लक्षण

  • सीने में दर्द होना और दबाव महसूस होना
  • साँस लेने में परेशानी होना या साँस फुलना
  • बोलने में परेशानी होना

यदि इस प्रकार के लक्षण आप के अन्दर पाए जाते हैं तो आप तुरंत चिकित्सा सहायता लें और आपको यदि Covid-19 होने की शंका है तो पहले फोन पर बात करके ही चिकित्सक के पास जाएँ ।

जो लोग स्वास्थ हैं तथा उनमें कुछ कोरोनावायरस के लक्षण पाए जाते हैं तो वो दूसरों से दो गज (2 Yards) की दुरी बनाये रखें एवं 14 दिनों तक अपने घर पर ही रहें । गंभीर स्थिति होने पर राज्य सरकार द्वारा दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करें ।

कोरोनावायरस के लक्षण संक्रमण होने के 4-5 दिन बाद दिखाई देते हैं और कुछ मामलों में Covid-19 के लक्षण दिखने में 13-14 दिन भी लग जाते हैं ।

कोरोनावायरस फैलने के कारण (Causes of spread of coronavirus)

कोरोनावायरस कैसे फैलता है?  Coronavirus kaise failta hai?  coronavirus ke karan 

कोरोनावायरस फैलने के निम्नलिखित कारण हो सकते है –

  • जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता है या छींकता है और हम उस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहते है तो  कोरोनावायरस हमें भी हो सकता है क्यूंकि जब भी कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है तो उसके मुंह एवं नाक से द्रव की छोटी-छोटी बूंदे हवा में मिल जाती है जिसके साथ में कोरोनावायरस (Coronavirus) भी होता है । इस संक्रमित हवा को जब कोई स्वास्थ व्यक्ति साँस के द्वारा अपने नाक से ग्रहण करता है तो उस व्यक्ति को भी कोरोनावायरस हो जाता है ।
  • लगातार किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहना एवं उसी के साथ में खाना-पीना ।
  • किसी संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाना ।
  • किसी ऐसी वस्तु को छूना जो कोरोनावायरस से संक्रमित हो
  • भीड़-भाड़ वाली जगहों जैसे – शादियों, मेलों, पार्टियों आदि में जाना
Coronavirus
Image by Gerd Altmann from Pixabay

कोरोनावायरस का खतरा कब बढ़ जाता है?

जब आप किसी अस्पताल या चिकित्सालय तथा लेबोरेटरी में नौकरी करते हो और वहां आप काम करते हो तो ऐसी स्तिथि में आपको Covid-19 होने का खतरा बढ़ जाता है ।

इसके अतिरिक्त यदि आपके घर में कोई व्यक्ति पहले से ही  कोरोनावायरस से संक्रमित है तो आपको भी  कोरोनावायरस से संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है ।

कोरोनावायरस की रोकथाम (Prevention of Coronavirus in Hindi)

कोरोनावायरस से कैसे बचा जा सकता है ? Coronavirus se kaise bacha ja sakta hai ? Coronavirus se bachav in Hindi

कोरोनावायरस से बचने अथवा उसकी रोकथाम करने के लिए निम्न गाइडलाइन्स का पालन करना चाहिए –

  • बार-बार अपने हाथों को साबुन या हैण्डवाश से धोएं
  •  सैनिटाइजर (Sanitizer) से थोड़ी-थोड़ी देर में अपने हाथों को साफ करें
  • भीड़-भाड़ वाली जगहों जैसे – शादी-समारोहों, बर्थडे पार्टियों एवं मेलों में जाने से बचें
  • दूसरों से 2 गज की दुरी बनाये रखें
  • कोरोनावायरस के लक्षण वाले व्यक्तियों के पास न जाएँ
  • अपने मुह, आँखों या नाक को न छुएं
  • घर से जरुरी होने पर ही बाहर जाएँ
  • घर से बाहर जाते समय मुह पर मास्क अवश्य लगायें
  • खांसते या छींकते समय अपने मुह को रुमाल या टिश्यू पेपर से ढंके
  • यदि आपको खांसी, बुखार या साँस लेने में परेशानी हो तो अपने डॉक्टर को सूचित करें

इसके अतिरिक्त भारत सरकार द्वारा दी गयी सभी गाइडलाइन्स का नियमपूर्वक पालन करें

कोरोनावायरस का परिक्षण (Test of Coronavirus in Hindi) 

कोरोनावायरस का परिक्षण कैसे किया जाता है ? Coronavirus ka parikshan kaise kiya jata hai ? 

कोरोनावायरस का परिक्षण करने के लिए अलग से लेबोरटरी में आपके लार का टेस्ट किया जाता है । आईसीएमआर (ICMR ) अर्थात इंडियन कॉउन्सिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च (Indian Council of Medical Research) के अनुसार, जिस व्यक्ति का कोरोनावायरस टेस्ट करना हो उस व्यक्ति के लार (Saliva) को निकाल कर उसका दर्ज प्रयोगशाला में पॉलिमरेज़ शृंखला अभिक्रिया (polymerase chain reaction) यानि पीसीआर (PCR) टेस्ट किया जाता है ।

इस टेस्ट के अतिरिक्त भारत में रैपिड टेस्ट पर भी जोर दिया जा रहा है जो भविष्य में संभव हो सकता है जिससे अधिक लोगों का टेस्ट संभव हो सकेगा और समय की भी बचत हो सकेगी ।

भारत में कोरोनावायरस का परिक्षण कहाँ किया जा रहा है ?

कोरोनावायरस का परिक्षण करने के लिए पीसीआर (PCR) टेस्ट को अपनाया गया है । पीसीआर (PCR) का यह टेस्ट सबसे पहले पुणे की नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (National Institute of Virology in Pune) में किया गया था किन्तु पुरे देश के लोगों का सैंपल वहां भेजना पॉसिबल नहीं था इसलिए अब यह टेस्ट देश की चुनिंदा प्रयोगशालाओं में किया जा रहा है जिनमे से कुछ निजी प्रयोगशालाओं को भी सम्मिलित किया गया है । 

COVID-19 Disease
Image by Miguel Á. Padriñán from Pixabay

कोरोनावायरस का उपचार (Treatment  of Coronavirus in Hindi)

कोरोनावायरस का उपचार क्या है ? Coronavirus ka upchar kya hai ?  COVID-19 ka upchar in Hindi

जब पहली बार कोरोनावायरस दुनिया में आया तो इसका कोई उपचार उपलब्ध नहीं था और लोगों की मौतें होती जा रही थी किन्तु इसके लक्षणों के आधार पर दूसरी दवाओं से इसका उपचार किया जा रहा था । लेकिन यह पूरी तरह कारगर साबित नहीं हुआ था जिसके कारण लोगों की मौते नहीं रुक रही थी इससे लोगों में भय बढ़ता जा रहा था ।

फिर बाद में वैज्ञानिकों ने सफल परिक्षण के बाद कोरोनावायरस की वैक्सीन को बनाया जाना संभव हुआ । भारत के वैज्ञानिकों ने अब कोरोनावायरस से बचने के लिए वैक्सीन तैयार की है ।

भारत की दो बड़ी कंपनियों ने अभी तक कोरोनावायरस की वैक्सीन को बना लिया है जिनका नाम भारत बायोटेक (Bharat Biotech) एवं सीरम इंस्टिट्यूट (Serum Institute) है । जिनकी वैक्सीन के नाम निम्नलिखित है –

  1. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) की Covaxin एवं
  2. सीरम इंस्टिट्यूट (Serum Institute) की Covishield  है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.